7वां वेतन आयोग: डीए के बाद अब बढ़ सकता है फिटमेंट फैक्टर, जानें कितनी होगी केंद्रीय कर्मचारियों की सैलरी

 

  7वां वेतन आयोग : केंद्रीय कर्मचारियों के न्यूनतम वेतन को बढ़ाने के लिए 2016 में पहली बार वेतन में फिटमेंट फैक्टर को शामिल किया गया था.  यह सातवें वेतन आयोग की सिफारिश पर किया गया था, ताकि केंद्र सरकार के कर्मचारियों को न्यूनतम वेतन मिल सके।  अब फिटमेंट फैक्टर बढ़ाने की बात हो रही है।  फिटमेंट फैक्टर जितना अधिक होगा, केंद्रीय कर्मचारियों का वेतन उतना ही अधिक होगा।

  फिटमेंट फैक्टर से कैसे बढ़ती है सैलरी?

  वर्तमान में किसी भी कर्मचारी का वेतन निर्धारित करते समय पुराने मूल वेतन को फिटमेंट फैक्टर से गुणा किया जाता है।  इसके बाद इसमें महंगाई भत्ता, यात्रा भत्ता, मकान किराया भत्ता जैसे घटक जुड़ जाते हैं।  इस प्रकार यदि फिटमेंट फैक्टर अधिक है, तो मूल वेतन से गुणा करने पर यह आंकड़ा भी बड़ा हो जाएगा और इससे सीधे कर्मचारी के वेतन में वृद्धि होगी।

  कितनी बढ़ेगी सैलरी?

  वर्तमान में केंद्रीय कर्मचारियों का वेतन 18,000 रुपये है।  वहीं अगर सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के आधार पर मौजूदा फिटमेंट फैक्टर की बात करें तो यह 2.57 है।  अब इसे बढ़ाकर 3 करने की बात कही जा रही है. अगर इसे बढ़ाकर 3 किया जाता है तो केंद्रीय कर्मचारियों का न्यूनतम वेतन सीधे 18 हजार रुपये से बढ़कर 25 हजार रुपये हो जाएगा, जो केंद्रीय कर्मचारियों के लिए किसी बड़ी खुशखबरी से कम नहीं है.

  हाल ही में बढ़ा महंगाई भत्ता

  हाल ही में सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों को मिलने वाले महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी की है।  पहले यह 17 प्रतिशत था, जिसे अब बढ़ाकर 28 प्रतिशत कर दिया गया है।  इसे 1 जुलाई से लागू किया गया है, जिससे केंद्रीय कर्मचारियों को काफी फायदा हुआ है।  हालांकि यह बढ़ोतरी करीब डेढ़ साल बाद हुई है।  अब अगर फिटमेंट फैक्टर भी बढ़ाया जाता है तो केंद्रीय कर्मचारियों को बल्ले-बल्ले का खर्च उठाना पड़ेगा।

Leave a Comment